DropDown

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

Labels

Saturday, August 1, 2015

प्रेम, वासना नहीं उपासना है। वासना का उत्कर्ष प्रेम की हत्या है, प्रेम समर्पण एवं विश्वास की परकाष्ठा है।
 -स्वामी रामदेव



माता-पिता का बच्चों के प्रति, आचार्य का शिष्यों के प्रति, राष्ट्रभक्त का मातृभूमि के प्रति ही सच्चा प्रेम है।
 -स्वामी रामदेव



साधूनां दर्शनं पुण्यं, “तिर्थभूता हि साधव:” देह के भीतर देही को देखो?
 -स्वामी रामदेव