DropDown

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

Labels

Saturday, August 1, 2015

विचारों का ही परिणाम है-हमारा सम्पूर्ण जीवन। विचार ही बीज है, जीवनरुपी इस व्रक्ष का।
 -स्वामी रामदेव



विचारशीलता ही मनुष्यता, और विचारहीनता ही पशुता है।
 -स्वामी रामदेव



पवित्र विचार प्रवाह ही मधुर व प्रभावशाली वाणी का मूल स्त्रोत है।
 -स्वामी रामदेव



अपवित्र विचारों से एक व्यक्ति को चरित्रहीन बनाया जा सकता है, तो शुध्द सात्विक एवं पवित्र विचारों से उसे संस्कारवान भी बनाया जा सकता है।
 -स्वामी रामदेव



हमारे सुख-दुःख का कारण दूसरे व्यक्ति या परिस्थितियाँ नहीं अपितु हमारे अच्छे या बूरे विचार होते हैं।
 -स्वामी रामदेव