DropDown

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

Labels

Wednesday, August 5, 2015

मेरुदण्ड में स्थित आठ चक्र

1.            मूलाधार चक्र: मूलेन्द्रियों के पास रीढ़ की हड्डी का मुड़ा हुआ सबसे नीचे का भाग जो गुदा के पास होता हैमूलाधारकहलाता है। इसे मूलबन्ध लगाकर सक्रिय किया जाता है।
2.            स्वाधिष्ठान चक्र: मूलाधार चक्र से चार अंगुल ऊपर यह चक्र होता है।
3.            मणिपुर चक्र: यह नाभि के पीछे मेरुदण्ड में स्थित होता है। इस चक्र को उड्डायन बन्ध लगाकर सक्रिय करते हैं।
4.            अनाहत् चक्र: शरीर के मध्यभाग में दोनों स्तनों के बीच गड्ढा सा होता है, इसे अनाहत चक्र कहते हैं।
5.            हृदय चक्र: हृदय के मध्य स्थित होता है।
6.            विषुद्धि चक्र: कण्ठ कूप के पीछे जो चक्र होता है इसे विषुद्धि चक्र कहते हैं। इस चक्र को जालन्धर बंध लगाकर सक्रिय करते हैं।
7.            आज्ञा चक्र: ललाट पर दोनों भोहों के मध्य जहाँ टीका लगाते हैं, आज्ञा चक्र कहते हैं।

8.            सहस्त्राधार चक्र: सिर पर चोटी के नीचे यह चक्र होता है। जो व्यक्ति चोटी रखते हैं वे चोटी को थोड़ा खींचकर गाँठ लगाते हैं जिससे यह चक्र सक्रिय होता है।